रविवार, 24 जनवरी 2021

एक वफादार नेवला - THE LOYAL MONGOOSE - HINDI MOTIVATIONAL STORIES

 

Loyal mongoose - motivational stories

एक बार की बात है। एक गाँव में एक किसान दंपति रहा करते थे। उनके पास एक पालतू नेवला था। जो उन्ही के साथ उनके घर में रहा करता था। उस किसान दंपति की एक संतान थी। 

एक दिन उस किसान दंपति को किसी काम से तुरंत घर से दूर जाना था। परन्तु उनका बेटा अभी बहुत छोटा था। और घर में उसे अकेला छोड़ कर नहीं जाया जा सकता था। दोनों पति पत्नी कुछ परेशान हुए तभी उनका पालतू नेवला उनको परेशान देख कर उनके पास आ कर बैठ गया। 

क्योंकि उनका जाना ज़रूरी था। तो कोई न कोई रास्ता तो  निकालना ही था। तभी किसान की अपने पालतू नेवले पर नज़र गई वह जानता था उसका नेवला समझदार और वफादार है। दोनों ने फैसला किया की वह अपने पालतू नेवले को बेटे की सुरक्षा के लिए छोड़ जाएंगे उसकी निगरानी में वह दोनों अपने बेटे को छोड़ के चले गए।

अब नेवला और शिशु दोनों घर में अकेले थे। थोड़ी देर खेल कर शिशु सो गया। पर नेवला उसी के पास बैठा रहा। तभी अचानक एक सांप चुपके से घर में घुस आया। और शिशु के पालने की तरफ हमला करने के लिए बढ़ा। उसे देखते ही वफादार नेवले ने बिना डरे शिशु को बचाने के लिए सांप पर हमला कर दिया और काफी लड़ाई के बाद उसे मार डाला।

hindi motivational stories - safalhun.in

कुछ देर बाद जब किसान दंपति घर वापस आए तो नेवले को घर के बाहर खड़ा पाया। किसान की पत्नी ने खून से लथ पथ नेवले को देखा और गुस्से से बोली " तूने मेरे बेटे को मार डाला " । यह सुन किसान भी आग बबूला हो गया और हाथ में पकडे फावड़े से नेवले को मार डाला। 

भागते हुए जब वह घर के अंदर पहुंचे और पालने में देखा तो उनका बेटा आराम से सो रहा था। अपने लाडले को ज़िंदा देख उनकी सांस में सांस आई। तभी उनकी नज़र पलने के पास पड़े मरे हुए सांप की तरफ गई। मरे हुए सांप को देख कर वह सब समझ गए और अपने किये पर पछतावा करने लगे। पर अब उनका वफादार नेवला मर चुका था।

कहानी की सीख : कोई भी फैसला लेने से पहले एक बार ज़रूर सोचें 

Think Before You Act 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें